रोहित सरदाना

वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना आज हमारे बीच नहीं रहे. कुछ न्यूज़ रिपोर्ट्स ने बताया की पत्रकार की मौत कोरोना से हुए, परन्तु यह सत्य नहीं हैं. रोहित सरदाना की मृत्यु का कारण कुछ ओर है तो आइए जानते है की किस कारण वरिष्ठ पत्रकार को इतनी कम उम्र में इस दुनिया को अलविदा कहना पड़ा.

रोहित सरदाना

 

टेलीविजन पत्रकारिता जगत उस वक्त सदमे में आ गया जब यह खबर बहार आई की न्यूज़ एंकर रोहित सरदाना नहीं रहे. रोहित सरदाना ने सिर्फ 42 वर्ष की आयु में इस दुनिया को अलविदा कह दिया. रोहित वो पत्रकार थे जो अपने सवालों और बोलने के तरीकों से लोगों के दिलों में बसते थे. देश की बड़ी आबादी अपने सारे काम-धंधे छोड़कर इनकी बड़े-बड़े राजनेताओं के साथ होने वाली डिबेट देखा करते थे. अब वो हमारी बीच नहीं रहे तो इनकी मृत्यु भी एक रहस्य बन चुकी हैं.

व्लादिमीर पुतिन से मोदी की बातचीत बनी दुनिया की सबसे बड़ी बात, जानिए क्या स्पेशल हुए इसमें?

पहले न्यूज़ रिपोर्ट्स में यह बताया जा रहा था की रोहित की मृत्यु कोरोना से हुई है और गोर करने वाली बात यह रही की आज दोपहर करीब साढ़े बारह बजे zee news के चीफ़ एडिटर (मुख्य सम्पादक) सुधीर चौधरी ने ट्विट करके लिखा की ‘अब से थोड़ी पहले जितेन्द्र शर्मा (zee news के क्राइम सम्पादक) का फ़ोन आया. उसने जो कहा सुनकर मेरे हाथ काँपने लगे. हमारे मित्र और सहयोगी रोहित सरदाना की मृत्यु की ख़बर थी. ये वाइरस हमारे इतने क़रीब से किसी को उठा ले जाएगा ये कल्पना नहीं की थी. इसके लिए मैं तैयार नहीं था।ये भगवान की नाइंसाफ़ी है.. ॐ शान्ति’ इसमें सुधीर चौधरी ने भी यह बताया की वायरस के कारण पत्रकार रोहित सरदाना की मृत्यु हुई. लेकिन यह सत्य नहीं हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पत्रकार रोहित सरदाना की मृत्यु हार्ट-अटैक से हुई हैं. जी हां पत्रकार की मृत्यु दिल का दौरा पड़ने के कारण हुई हैं. लेकिन आपको बता दें की हम इस बात को भी नहीं झुटला सकते की पत्रकार को कोरोना नहीं हुआ था. रोहित सरदाना को कुछ दिनों पहले कोरोना पोजिटिव पाया गया था. हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह बताया जा रहा है की वह वापस नेगिटिव हो गए थे. वहीं कुछ खबरें यह भी आ रही है की मृत्यु के समय भी वह कोरोना से झुझ रहे थे. लेकिन उनकी मृत्यु दिल का दौरा पड़ने से ही हुई हैं.

Exit Poll: असम में फिर बनेंगी भाजपा सरकार, बंगाल में कांटे की टक्कर

रोहित सरदाना की मृत्यु की खबर बाहर आते ही राजनीतिक जगत में भी दुखों का पहाड़ टूट पड़ा. बहुत से राजनेताओं ने ट्विट करके शोक जताया. यहां तक की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्विट करके दुःख प्रतीत किया. मोदी ने लिखा की ‘रोहित सरदाना ने हमें बहुत जल्द छोड़ दिया. ऊर्जा से भरपूर, भारत की प्रगति और एक दयालु आत्मा के बारे में भावुक, रोहित कई लोगों द्वारा याद किया जाएगा. उनके असामयिक निधन ने मीडिया जगत में एक बहुत बड़ा शून्य छोड़ दिया हैं. उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति संवेदना. ॐ शांति’. आपको बता दें की उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी रोहित सरदाना की मृत्यु पर दुःख जताया हैं. योगी आदित्यनाथ ट्विटर पर लिखते है की ‘वरिष्ठ पत्रकार श्री रोहित सरदाना जी का निधन अत्यंत दुःखद हैं. वह जनपक्षीय पत्रकारिता के अप्रतिम हस्ताक्षर थे. प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि वह दिवंगत आत्मा को शान्ति व शोकाकुल परिजनों को यह अथाह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें. ॐ शांति’.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्विट करके दुःख जाहिर किया हैं. अरविंद केजरीवाल ने लिखा की ‘वरिष्ठ टीवी पत्रकार रोहित सरदाना जी के निधन की दुखद ख़बर स्तब्ध कर देने वाली हैं. ईश्वर उनकी आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें और परिवार को ये दुख सहने का साहस दें. बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और देश के ग्रह मंत्री अमित शाह ने भी ट्विट करके दुःख प्रकट किया. अमित शाह ने लिखा की ‘श्री रोहित सरदाना जी के असामयिक निधन के बारे में जानने के लिए दर्द हुआ. उनमें से, राष्ट्र ने एक बहादुर पत्रकार खो दिया है जो हमेशा निष्पक्ष और निष्पक्ष रिपोर्टिंग के लिए खड़ा था. भगवान उनके परिवार को इस दुखद नुकसान को सहन करने की शक्ति दे. उनके परिवार और अनुयायियों के प्रति मेरी गहरी संवेदना’.

आपको बता दें की सिर्फ ये चार राजनेता ही नहीं बल्कि बहुत से बड़े-बड़े दिग्गज राजनेताओं ने भी रोहित सरदाना की इतनी कम आयु में मृत्यु पर दुःख जताया.

यह जरुर पढ़ें :-

मरो हिंदुओं! लिखकर इस टीवी अभिनेत्री ने चौकीदार और संघ के मरने की दुआ मांगी

By Sachin

One thought on “रोहित सरदाना की मृत्यु कोरोना से नहीं हुई, जानिए क्या है पत्रकार की मृत्यु की असली वजह?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *