शरद पवार

हाल ही महाराष्ट्र से एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार का एक विवादित बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने अपने आप को हमारे भगवान का बाप बताया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) एक बार फिर से विवादों में हैं। इस बार हिंदू देवी-देवताओं के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करने के लिए उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है। महाराष्ट्र के सतारा में 9 मई को भारतीय जनजातीय अनुसंधान और विकास संस्थान (Indian Tribal Research and Development Institute) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में शरद पवार को बतौर अतिथि आमंत्रित किया गया था।

आपको बताते चलें की पवार ने इसी कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुछ आपत्तिजनक बातें कही, एनसीपी प्रमुख ने राठौड़ की कविता का हवाला देते हुए कहा की कैसे उन्होंने इसमें अपने पिछड़ी जाति से आने और लोगों द्वारा उनके साथ किए गए व्यवहार का वर्णन किया है। उन्होंने अपने संबोधन को जारी रखते हुए कहा “हमने तो मूर्तियों को तराशा और लेकिन आपने केवल उन्हें मंदिरों के अंदर ही रखा और तुम साले हरामी हमें मंदिरों में प्रवेश भी नहीं करने देते?”

एनसीपी प्रमुख यहीं नहीं रुके ओर उन्होंने कथित तौर पर निम्न जातियों के लोगों को मंदिरों में प्रवेश नहीं करने देने के लिए पुजारियों की आलोचना करने के लिए कवि जवाहर राठौड़ का हवाला दिया। पवार ने कहा “ब्रह्मा-विष्णु-महेश, इन हिंदू देवताओं को हमने छन्नी से और अन्य अपने औजारों का उपयोग करके बनाया है। हम तुम्हारे भगवान के भी बाप हैं, क्योंकि हम ने इन्हें तुम्हारा परमेश्वर बनाया है।”

पवार ने कहा “इसलिए जवाहर राठौड़ ने एक कविता लिखी है, जिसमें कहा गया है कि हम अपने साथ हुए अन्याय को बर्दाश्त नहीं करेंगे।” पवार ने यह भी कहा “मुझे बस इतना कहना है कि दुर्व्यवहार, लोगों के साथ भेदभाव की प्रवृत्ति अभी भी हमारे समाज में है। आज भी हम सबके बीच एक ऐसा वर्ग है, जो रीति-रिवाजों, परंपराओं की आड़ में जाति और धर्म को लेकर नफरत के बीज बो रहा है।”

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

सभी हिंदू 4 मई को मस्जिदों के लाउडस्पीकर से दोगुनी आवाज में हनुमान चालीसा बजाएं: राज

%d bloggers like this: