अमृतसर

पंजाब के अमृतसर के जंडियाला के गांव डडुआना गाँव में क्रिश्चियन समाज के एक धार्मिक कार्यक्रम में सिख निहंग जत्थेबंदियों ने बंद करवा दिया और झड़प की भी बात सामने आ रही है।

प्राप्त जानकारियों के हवाले से पंजाब के अमृतसर में क्रिश्चियन भाईचारे और सिख जत्थेबंदियों में एक कार्यक्रम के दौरान झड़प हो गई। बीच-बचाव के लिए पुलिस को आना पड़ा। पुलिस ने सिख निहंग जत्थेबंदियों को आश्वासन दिया कि अमृतसर के जंडियाला के गांव डडुआना में क्रिश्चयन कार्यक्रम व धर्म-परिवर्तन नहीं होगा। जिसके बाद जत्थेबंदियों ने प्रदर्शन बंद किया।

आपको बताते चलें कि जंडियाला गुरु के गांव डडुआना में क्रिश्चियन समाज का धार्मिक कार्यक्रम चल रहा था। जहां निहंग जत्थेबंदियों ने पहुंच कार्यक्रम को बंद करवा दिया। निहंग जत्थेबंदियों ने आरोप लगाया कि यहां बीते कुछ महीनों से क्रिश्चियन कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है, जिसमें लोगों को गुमराह किया जाता है। कई बार गांव के लोगों की तरफ से विरोध किया गया। लेकिन जब किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की तो उन्हें मौके पर पहुंचे और कार्यक्रम को बंद करवाना पड़ा।

वहीं निहंग जत्थेबंदियों ने आरोप लगाया कि कार्यक्रम आयोजित करने वालों को क्रिश्चियन समाज की पूरी जानकारी भी नहीं है। अपने रिश्तेदारों को कार्यक्रम के बैठाकर लोगों को गुमराह करते हैं और फिर उनका धर्म-परिवर्तन करवाते हैं। इस मामले में जंडियाला गुरु का कहना है कि दोनों पक्षों को बैठाकर बातचीत करवाई गई है। दोनों पक्षों की बात सुनी गई है। दोनों पक्षों की कुछ बातों को माना गया है और माहौल को शांत करवा दिया गया है।

गौरतलब है कि भाजपा के राष्ट्रिय प्रवक्ता आरपी सिंह ने पादरी अंकुर नरूला के उस बयान पर सख्त ऐतराज़ जताया है, जिसमें नरूला ने साफ़ तौर पर कहा कि उन्होंने पंजाब की 20% आबादी को ईसाई धर्म में परिवर्तित कर दिया है। आरपी सिंह ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी पर भी सवाल उठाया है कि सिख धर्म के नेताओं ने अंकुर नरूला के धर्म परिवर्तित करने वाले बयान पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं की और इस तरह के परिवर्तन को बंद क्यों नहीं किया जा रहा।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

“मान साहब पंजाब बदलन थी, पत्नी नहीं” सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो

%d bloggers like this: