सीएम योगी

यूपी विधानसभा में योगी सरकार द्वारा 33 हजार 700 करोड़ का पहला अनुपूरक बजट पारित किया गया। वहीं सीएम योगी इस दौरान सभी दलों के नेताओं को जवाब भी दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रदेश में अवस्थापना, उद्योग व शहरी विकास की रफ्तार तेज की जाएगी। योगी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के 2022-23 के पहले अनुपूरक बजट में अवस्थापना, औद्योगिक और शहरी विकास को खास तवज्जो दी है। स्वास्थ्य, शिक्षा और बिजली को भी तरजीह दी गई है। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने सोमवार को विधानसभा में 33770 करोड़ रुपये का अनुपूरक बजट पेश किया जबकि विधान परिषद में केशव प्रसाद मौर्य ने अनुपूरक बजट पेश किया।

आपको बताते चलें कि इस दौरान सीएम योगी ने कहा, “37 वर्षों बाद ऐसा मौका आया, जब पूर्ण बहुमत से सत्ता आई। जैसा प्रधानमंत्री जी कहते हैं, सबका साथ सबका विकास सबका प्रयास और सबका विश्वास। यूपी सरकार ने जो कहा वो कर के दिखाया और जितना किया उतना ही जनता के सामने। यूपी जैसे राज्य में दंगे होते थे. लोगों के मन में उत्तर प्रदेश का नाम सुन कर डर पैदा होता था।”

उन्होंने आगे कहा, “देश के सबसे बड़े राज्य की जो स्थिति पहले थी वो विकास में बाधक थी. लेकिन 5 वर्ष के दौरान यूपी के बारे में पर्सेप्शन बदला है। नए विश्वास के साथ यूपी का हर व्यक्ति जाति और क्षेत्र से ऊपर उठ कर सरकार के विजन से खुद को जोड़ कर अपना सर्वश्रेष्ठ देने लिए तत्पर दिखाई देता है। कोरोना काल में बड़ी संख्या में श्रमिक दूसरे राज्यों से यूपी में आए थे। राज्य सरकार में उनके लिए व्यवस्था की थी।”

सीएम योगी ने कहा, “कोरोना काल में लोगों को लगता था कि माइग्रेंट श्रमिक कहां जाएंगे। उनको लाने के लिए यूपी की सरकार ने काम किया है।” वहीं 2018 में आई ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ के मॉडल की सफलता बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “इससे भी प्रदेश में सफलता मिली। यूपी दंगामुक्त हो सकता है, यूपी ने करके दिखाया। आज हर व्यक्ति अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रहा है। Ease of Living की दिशा में उत्तर प्रदेश ने काम किया।”

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

कॉंग्रेस के 33 साल पुराने आदेश को योगी सरकार ने किया रद्द, जानिए पूरा मामला

%d bloggers like this: