ज्ञानवापी

ज्ञानवापी परिसर में अभी भी सर्वे जारी है, लेकिन इसी बीच एक ओर वीडियो सामने आया है। इसे देखने के बाद आपको यह सोचने में ज्यादा समय नहीं लगेगा की वुज़ूखाने में शिवलिंग है या फव्वारा!

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ज्ञानवापी मस्जिद का एक नया वीडियो सामने आया है। यह वुज़ूखाने से जुड़ा दूसरा वीडियो है। वीडियो तो एक साल पुराना बताया जा रहा है। लेकिन इस वीडियो के सामने आने के बाद हिंदू पक्ष का दावा है कि अब कोई शक नहीं है कि वुज़ूखाने में शिवलिंग है। इस नए वीडियो में आखिर ऐसा क्या है, क्यों हिंदू पक्ष इसे बहुत ख़ास बता रहा है?

आपको बताते चलें की ज्ञानवापी मस्जिद का एक वायरल वीडियो पहले ही चर्चा में है जिसमें वुज़ूखाना दिखाई दे रहा है। वुज़ूख़ाने के बीच में एक गोल घेरा जिसमें हिंदू पक्ष शिवलिंग का दावा कर रहा है और मुस्लिम पक्ष उसे फव्वारा बता रहा है। इस वीडियो के बाद आज एक और नया वीडियो सामने आया है। ये वीडियो भी ज्ञानवापी मस्जिद के वुज़ूखाने का है। लेकिन इस दूसरे वीडियो में कुछ और भी नजर आ रहा है।

गौरतलब है की पहले वीडियो में सिर्फ वुज़ूखाने की ही तस्वीर दिखाई दे रही है जहां कुछ लोग वुज़ूखाने की सफाई करते दिखाई दे रहे हैं। बीच में जो आकृति है उसे हिंदू पक्ष ज्योतिर्लिंग बता रहा है। लेकिन दूसरे वीडियो में वुज़ूखाने के बाहर का भी दृश्य नज़र आता है। दूसरे वीडियो में सबसे पहले एक नंदी दिखाई दे रहे हैं जो लोहे के ग्रिल के अंदर हैं। ये नंदी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में विराजमान हैं। इसके बाद कैमरा पैन होकर घूमता है और नंदी के ठीक सामने नज़र आता है ज्ञानवापी मस्जिद का वुज़ूखाना।

बताया जा रहा है की करीब 83 फीट की दूरी पर मौजूद वुज़ूखाना दिखाई दे रहा है। सामने लोहे की जाली की दीवार है जिसके अंदर वुज़ूखाना साफ दिखाई दे रहा है। वुज़ूखाने में पानी भरा हुआ है और बीच में पत्थर का गोल घेरा है। इसके अंदर मौजूद आकृति को मुस्लिम पक्ष पुराना टूटा फव्वारा बता रहा है तो हिंदू पक्ष शिवलिंग होने का दावा कर रहा है। दूसरे वीडियो को एक साल पुराना बताया जा रहा है।

अब आपको बताते हैं इस वीडियो में क्या ख़ास है। इस वीडियो में वुज़ूखाने और नंदी के बीच लोहे की जाली नज़र आ रही है। नंदी का चेहरा ठीक वुज़ूखाने की ओर है। ज्ञानवापी को मंदिर बताने के लिए कई साल से काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थापित नंदी की मूर्ति को गवाह के तौर पर पेश किया जा रहा था। नंदी की मूर्ति आपको हर शिवालय में दिख जाएगी। काशी के लोगों को दावा है कि दुनिया के हर शिव मंदिर में नंदी का मुंह गर्भगृह की ओर ही होता है, लेकिन काशी विश्वनाथ के नंदी का मुंह ज्ञानवापी की तरफ़ है। ठीक उसी दिशा में, जहां ज्ञानवापी मस्जिद का वुज़ूख़ाना है। इसलिए सर्वे के बाद हिंदू पक्ष ने ऐलान कर दिया कि नंदी के महादेव मिल गए।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

भारत में औरंगजेब के कितने अंधभक्त? ये वीडियो आपको बताएगा पूरा सच!

%d bloggers like this: