नरसिंहानंद

महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या की साजिश की खबर का खुलासा हुआ है, लेकिन पुलिस ने आरोपी आतंकवादी को गिरफ्तार किया गया.

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित डासना के शिव व शक्ति मंदिर से कुछ समय पहले शुरू हुई कहानी अपने चरम सीमा तक पहुंच रही है, दरअसल दिल्ली पुलिस ने मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती जी की हत्या की साजिश का पर्दाफाश किया है और आरोपी एक आतंकी को भी गिरफ्तार कर लिया है. बता दें की पुलिस ने सोमवार 17 मई 2021 को एक होटल से गिरफ्त में लिया था.

यति नरसिंहानंद को धमकी देने वाली गैंग और हिंदू कार्यकर्ताओं का हुआ आमना-सामना

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आरोपी जम्मू व कश्मीर का रहने वाला हैं और उसका नाम मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर बताया जा रहा है, उसके पास से पुलिस को भगवा कपड़ा भी मिला. इस आतंकी को पड़ोसी देश पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के एक सरगना ने महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती को मारने के लिए भेजा था, प्लान के मुताबिक उसे एक साधु के वेश में मंदिर में घुस महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी, लेकिन उसके ये प्लान फ़ैल हो गया है.

मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर ने पुलिस को बताया की आबिद नाम के अपने एक आदमी उसे पाकिस्तान से निर्देशित कर रहा था, व्हाट्सएप्प के जरिए वह उसके संपर्क में रहता था, आबिद ने उसे महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती का एक वीडियो दिखाया था और फिर उनकी हत्या के लिए कहा था, इसके लिए जहाँगीर को हथियार चलाने की ट्रेनिंग भी दिलवाई गई थी, आबिद ने काम हो जाने पर रुपए देने की बात भी कही थी.

बता दें की मोहम्मद डार कश्मीर से दिल्ली के लिए 23 अप्रैल 2021 को निकला और जब वे दिल्ली पहुंचा तो यहां उसका इंतजार उमर नाम का व्यक्ति कर रहा था. दोनों को आपस में मिलना था, दोनों की एक अन्य सोशल मीडिया प्लेटफोर्म टेलीग्राम पर बातचीत जारी थी. उमर ने जहांगीर के दिल्ली में रहने की सारी व्यवस्था की और जब वह दिल्ली के लिए कश्मीर से निकला तो उसके खाते में 35 हजार रुपय की बड़ी रकम भी डाली गई थी. बरहाल पुलिस की पूछताछ लगातार जारी हैं.

इसे भी जरुर पढ़ें:-

ओवैसी की पार्टी ने नरसिंहानंद, रिजवी का सर धड़ से अलग करने वाला जारी किया पोस्टर

By Sachin

2 thoughts on “साधू के वेश में मंदिर में घुस यति नरसिंहानंद की हत्या की साजिश नाकाम”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *