PIF

माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) ने पहले तो भारतीय कानूनों को नहीं माना और अब एक आतंकी संगठन PFI को ब्लू टिक देकर वेरीफाई धारक की सूचि में नाम डाला.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारत सरकार और माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) के बिच पिछले कुछ समय से नय आईटी (IT) नियमों को लेकर कसाकसी चल रही थी, भारत सरकार के नय आईटी नियमों को मानने से ट्विटर अनबन कर रहा था तो सरकार ने भी उसको मिलने वाले क़ानूनी संरक्षण को वापस ले लिया. लेकिन अब खबर ये आ रही है की ट्विटर ने उस संगठन को वेरीफाई ब्लू टिक मार्क दे दिया है, जिस संगठन का देश हुए कई आतंकी हमलों में हाथ था.

बता दें की ट्विटर ने PFI यानि की Populer Front of India (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) की कर्नाटक इकाई को अपना वेरीफाई ब्लू टिक मार्क प्रदान किया है. PFI कर्नाटक इकाई के वर्तमान में 16 हजार से भी अधिक फोल्लोवर्स हैं, सोचने वाली बात यह है की ट्विटर ने भारत सरकार द्वारा नय आईटी नियमों का तो पालन नहीं किया और कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर भारत में आतंकवादी हमलों को अंजाम देने और देश के विभिन्न हिस्सों में बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक दंगे भड़काने के गंभीर आरोप लगाए गए हैं, ऐसों को ब्लू मार्क टिक दे रहा है.

पीएफआई का हिंसा फैलाने का काफी पुराना इतिहास है। नागरिकता संशोधन अधिनियम के मद्देनजर दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों और देश भर में हिंसा की जाँच के दौरान पीएफआई की भूमिका संदिग्ध पाई गई थी. इसके अलावा PFI के कई सदस्यों को दंगों में शामिल होने के लिए गिरफ्तार भी किया गया था. और पिछले साल नवंबर में कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने देश के विभिन्न हिस्सों में दंगे और हिंसा उकसाने के आरोपित किसानों के सरकार विरोधी प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया था. उसने प्रदर्शनकारियों को संविधान के संरक्षण के लिए संघर्ष करने के लिए कहा था.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

मोदी सरकार ने Twitter को मिलने वाले क़ानूनी संरक्षण किया खत्म

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *