CM योगी

उत्तर प्रदेश में तकरीबन 224 पूर्व आईएएस अधिकारयों ने लव जिहाद पर नय कानून का समर्थन किया, कहा “बिलकुल सही किया योगी सरकार ने”.

लव जिहाद

लव जिहाद कानून का समर्थन करते हुए ‘फोरम ऑफ़ कंसर्न्ड सिटिज़न्स’ बैनर के तले यूपी में 224 पूर्व सेवानिवृत्त अधिकारियों ने योगी सरकार को सही ठहराते हुए कहा कि ‘पक्षपाती’ प्रशासनिक अधिकारियों और कई वामपंथी लोगों की इच्छा इस बात में है कि भारत देश की अखंडता को कैसे खंडित किया जाए. बता दें की योगी आदित्नाथ ने 28 नवंबर 2020 को “गैर कानूनी धर्मांतरण विधेयक” अध्यादेश को स्वीकृति दी थी. जिसका देश भर से समर्थन भी मिल रहा है.

पूर्व सेवानिवृत्त अधिकारियों ने पत्र लिखकर किया समर्थन

यूपी में 224 पूर्व आईएएस अधिकारियों ने मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा राज्य में लागु किए गए लव जिहाद की रोकथाम हेतु कानून का समर्थन किया और योगी सरकार के इस निर्णय को बिलकुल सही बताया है. लेकिन कई सेवानिवृत्त अधिकारियों ने इसका विरोध करके एक चीज स्पष्ट कर दिया है की उनकी रूचि भारत की अखंडता को नुकसान पहुँचाने में ही है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 224 पूर्व नौकरशाहों ने पत्र में लिखा “यह विषय बहुत चिंता का है, मगर फिर भी खुद को गैर राजनीतिक बताने वाले कुछ आईएएस अधिकारीयों का एक समूह पक्षपाती बन चूका है और उस समूह का काम हर विषय सरकार का विरोध करना ही है. लेकिन इन लोगों इसे नैतिक कार्य का विरोध कर सेवानिवृत्त अधिकारि के पद की छवि को ही ख़राब कर दिया है.

इससे पहले 104 पूर्व आईएएस अधिकारीयों ने कानून का विरोध किया

इससे पहले 104 पूर्व आईएएस अधिकारियों ने कुछ रोज पहले CM योगी को पत्र लिखकर उन्हें बताया की उत्तर प्रदेश अब ‘नफ़रत की राजनीती’ का गढ़ बनता जा रहा है. इस पत्र से उन्होंने नय लव जिहाद के कानून का विरोध जताया.

उस पत्र में सेवानिवृत्त अधिकारियों ने पत्र में लिखा “कुछ समय पहले तो जिस उत्तर प्रदेश को गंगा-जमनी तहबिज का किला माना जाता था वहां अब कट्टरता और नफ़रत की राजनीती का गढ़ बन चूका है. इन्हीं सब तथ्यों का विरोध करते हुए 224 सेवानिवृत्त अधिकारियों ने CM योगी को पत्र लिखकर उनके द्वारा राज्य में लागु किए गए लव जिहाद के रोकथाम हेतु नय अध्यादेश का पूर्ण समर्थन किया.

इसे भी पढ़ें:-

हिंदू देवी-देवताओं पर टिप्पणी करने पर बुरे फंसे मुनव्वर, हुई पिटाई, किया गिरफ्तार
%d bloggers like this: