हनुमान चालीसा

सुनकर अजीब लगेगा, लेकिन भारत में ही हनुमान चालीसा पढ़ने पर एमपी के सीहोर जिले के एक निजी विश्वविद्यालय के 5 छात्रों पर हनुमान चालीसा पढ़ने के कारण जुर्माना लगा दिया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार देश में हनुमान चालीसा को लेकर एक नया विवाद सामने आया है। ये विवाद मध्य प्रदेश में सामने आया है जहां हनुमान चालीसा पढ़ने पर छात्रों पर जुर्माना लगा दिया गया। दरअसल, राज्य से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में एक निजी विश्वविद्यालय वीआईटी-भोपाल के कुछ छात्रों पर हनुमान चालीसा पढ़ने पर 5-5 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

आपको बताते चलें की जैसे ही इस जुर्माने की खबर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा को मिली तो उन्होंने तत्काल जुर्माना रुकवा दिया, उन्होंने तुरंत कलेक्टर से बात की। नरोत्तम मिश्रा ने आश्वस्त किया है कि हनुमानचालीसा पढ़ने पर किसी भी छात्र से कोई जुर्माना नहीं लिया जाएगा। वहीं इस बात की जानकारी मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने खुद अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो शेयर कर दी:-

नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कोई जुर्माना नहीं लगेगा। हनुमान चालीसा हिंदुस्तान में नहीं पढ़ेंगे, तो कहां पढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि छात्रों से जुर्माना नही लिया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि ये विषय ऐसा नहीं है जैसा बताया जा रहा है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा “हनुमान चालीसा पढ़ने पर प्राइवेट यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स से कोई जुर्माना नहीं वसूला जाएगा। कलेक्टर को पूरे मामले की विस्तृत जांच के आदेश दिए गए हैं।”

गौरतलब है की प्रदेश के गृह मंत्री ने कहा कि उन्होंने कलेक्टर को इस मामले की विस्तार से जांच करने को कहा है। इसके साथ-साथ उन्होंने यह भी कहा की चूंकि, उन्होंने हनुमानचालीसा का पाठ किया था, शोर के कारण सिक्योरिटी गार्ड, दूसरे बच्चों और उनके पालकों के फोन आए थे। बता दें की सोशल मीडिया पर बहुत से लोग नरोत्तम मिश्रा के इस फैसले पर अपनी खुशी भी जाहीर कर रहे हैं।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

काली माता के अपमान पर नरोत्तम मिश्रा बोले “हिम्मत है तो किसी ओर धर्म…”

%d bloggers like this: