VIDEO

जब से ज्ञानवापी परिसर के सर्वे का दूसरा VIDEO लीक हुआ है, तब हर तरफ इसकी चर्चा हो रही है। लेकिन इसी बीच मौलाना सरफ़राज़ अहमद ने एक भड़काऊ बयान जारी कर दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार काशी के ज्ञानवापी विवादित ढाँचे के अंदर के नए वीडियोज सामने आने के बाद ये लगभग साफ़ हो गया है कि शिवलिंग के साथ छेड़छाड़ की गई थी और जिसे ‘मस्जिद’ कहा जाता है, उसके भीतर मंदिर होने के कई प्रमाण मौजूद हैं। अब सरफराज अहमद नाम के एक मौलाना ने कहा है कि ज्ञानवापी में शिवलिंग की बातें करने वालों का मकसद ही था कि हिंदुस्तान में बवाल करना है।

आपको बताते चलें की उन्होंने कहा कि जो न्यूज़ चैनलों में चल रहा है वो क्या है, कानून के दायरे में मना कर दिया गया है कि कोई बात न करे, लेकिन फिर भी मीडिया में चल रहा है। वहीं मौलाना सरफराज ने आगे कहा “आपको क्या लगता है, जो फव्वारा कहा जा रहा है वो क्या है? फव्वारा है तो फव्वारा ही कहा जाएगा न, और अगर आपने ये आरोप लगा है कि ये शिवलिंग है तो ये जाँच का विषय है।”

इसके बाद मौलाना ने कहा “एक बात मैं ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ बोलना चाहता हूँ। किसी जमाने में ये मंदिर था। मंदिर तोड़ कर मस्जिद बन दी गई, इसमें कोई संशय की बात नहीं है। तो कहने का मतलब कि क्या बना, किसने बनाया – ये एक अलग विषय है।” अब उनकी इसी डिबेट का एक वीडियो (VIDEO) सामने आया है, ये डिबेज जी हिंदुस्तान चैनल की है और एक सवाल का जवाब देते समय मौलाना ने आपत्तिजनक टिप्पणी की।

गौरतलब है की इस दौरान मौलाना ने कहा “मैंने ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ भी ये बात कही थी और अब ‘ऑन द रिकॉर्ड’ भी कह रहे हैं कि अगर वहाँ शिवलिंग होता तो उसे कब का तोड़ कर हटा देते।” वहीं इसके बाद भी मौलाना सरफराज ने इस बयान पर माफ़ी माँगने से इनकार करते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा क्या कहा है? बता दें की सर्वे रिपोर्ट के वीडियो में उस स्थान पर हिंदू प्रतीक चिन्हों के मिलने के बाद देश भर में बहस छिड़ चुकी है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

ज्ञानवापी मस्जिद में स्पष्ट दिखे त्रिशूल चिन्ह व शिवलिंग, देखें सर्वे का नया वीडियो

One thought on “VIDEO: मौलाना ने कैमरे के सामने कहा “शिवलिंग होता तो कब का तोड़ देते””

Comments are closed.

%d bloggers like this: