विश्व हिंदू परिषद

कोरोना महामारी से लड़ने के लिए विश्व हिंदू परिषद ने भी कमर कस ली है, इस बार टीम बनाकर करने वाले हैं कोविड पीड़ितों की हर संभव सहायता.

देश भर कोरोना के बढ़ते संक्रमणों के बिच भारत की तमाम बड़ी संस्थाएं और NGO इस लड़ाई में आम जनों के साथ खड़े हो गए हैं. पहले राष्ट्र स्वयं सेवक संघ और मंदिरों ने इसके लिए अपना अतुल्य योगदान दिया व अभी भी कोविड से पीड़ितों की सेवा अभियान जारी है. अब समाचार आया है की कोरोना से इस युद्ध में विश्व हिंदू परिषद भी अपना योगदान देने को तैयार हैं.

विश्व हिंदू परिषद

विश्व हिंदू परिषद ने तैयार करी योजना

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार विश्व हिंदू परिषद ने इस लड़ाई को जितने के लिए एक जबर्दस्त योजना को सुनियोजित किया है, वीएचपी ने इस अभियान को विशेषकर 4 चरणों में विभाजित किया है और इसके अलावा संगठन के कार्यकर्ताओं को सभी मठ व मंदिरों, गुरुद्वारों, संतों, धर्माचार्यों व स्वयं सेवी संस्थाओं को साथ लेकर पूरी तरह से जुटने का आह्वान किया है.

अभियान के चार चरणों में से पहले चरण में रोग से बचाने के उपाए, दुसरे चरण में रोगियों की सेवा तथा उन्हें बचाने के प्रयास, तीसरे चरण में पीड़ित परिवारों की संबल और सहायता करना और चौथे चरण में अंतिम यात्रा व मोक्ष के उपाय. इसके अलावा वीएचपी के कार्यकर्ता हर क्षेत्र में जाकर लोगों से कोरोना की वैक्सीन लगवाने के लिए जागरूक भी करने वाले हैं.

विश्व हिंदू परिषद के अभियान के चरों चरण

वीएचपी ने प्रथम चरण की सेवाओं में दो गज दूरी व मास्क जरूरी, हाथ-मुंह की स्वच्छता के प्रति जागरूकता, मास्क व सेनेटाइजर, आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक और सिद्ध मेडिसिन के यथा योग्य वितरण, सामाजिक अनुशासन, धैर्य और मनोबल हेतु यौगिक क्रियाओं का संचालन तथा हेल्प लाइन नंबर के माध्यम से विषय विशेषज्ञों के साथ परामर्श व सहायता को सम्मलित किया है.

दुसरे चरण की सेवाओं में चिकित्सकों व वैद्यों से परामर्श, रोगी वाहन जैसे एम्बुलेंस, ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाइयों, प्लाज्मा, रक्त, ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर यूनिट, दवाओं तथा ऑक्सीमीटर इत्यादि की उपलब्धता कराई जाएगी. इसके साथ ही पृथक आवास केन्द्र, मरीजों व परिजनों के भोजन, उनके अकेले परिजनों की घरों और अस्पतालों में सहायता व चिकित्सा कर्मियों का सहयोग भी शामिल किया हैं.

तीसरे चरण की सेवाओं में मजदूरों, व निम्न आय वर्ग के लोगों के अतिरिक्त पीड़ित परिवारों को भोजन व पानी दवाओं और राशन वितरण, अकेले बुजुर्गों, छात्र-छात्राओं व बच्चों की देखभाल, गोवंश एवं अन्य प्राणियों हेतु आहार, पलायन को मजबूर यात्रियों को भोजन व पानी व दवाई की व्यवस्था जैसी मूल आवश्कताओं को सम्मलित किया हैं.

चौथा चरण बहुत ही संवेदनशील है क्योंकि इसमें कोरोना के ग्रास बने शवों को अस्पताल से मोक्ष द्वार तक पहुंचाने हेतु शव वाहन, अंतिम संस्कार की व्यवस्था, उससे जुड़ी सामग्री की व्यवस्था करने की सेवा शामिल हैं, इससे संक्रमण की चैन को भी तोड़ा जा सकता हैं.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

RSS के एक स्वयं सेवक ने अपनी जान देकर भी करी जनसेवा

One thought on “विश्व हिंदू परिषद कोरोना से लड़ने को तैयार, टीम वर्क से करेंगे सेवा”

Leave a Reply

%d bloggers like this: