सीएम केजरीवाल

दिल्ली के सीएम केजरीवाल का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें उन्हें ये कहते हुए सुना जा सकता है कि ‘अंबानी’ का घर वक्फ की प्रोपर्टी… हमारी सरकार होती तो तुड़वा देता।

प्राप्त जानकारियों के मुताबिक उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा वक्फ बोर्ड की संपत्तियों का सर्वे किए जाने के बाद सियासी बवाल मचा हुआ है। इस बीच अरविंद केजरीवाल का 3 साल पुराना बयान वायरल हो रहा है, जिसमें वो मुकेश अंबानी के घर माउंट एंटीलिया को वक्फ बोर्ड की संपत्ति बताते हुए दिख रहे हैं। इसके साथ ही वो ये भी कहते हैं कि अगर महाराष्ट्र में उनकी सरकार होती तो वो उसे ढहा चुके होते।

वक्फ बोर्ड का जहाँ भी मन होता है वो वहाँ पर अपना दावा ठोंक देता है। फिर वो चाहे हिंदू मंदिर हो या फिर हिंदू बहुल गाँव। उल्लेखनीय है कि केजरीवाल का ये वीडियो 3 साल पुराना है। इसमें वो एक मुस्लिम सभा को संबोधित करते हुए कहते हैं, “आपको जब भी जरूरत पड़ेगी अरविंद केजरीवाल और दिल्ली सरकार तन, मन और धन से आप लोगों (वक्फ) के साथ खड़ी रहेगी। मुंबई में देश के सबसे अमीर आदमी का घर वक्फ बोर्ड की संपत्ति पर बना हुआ है। वहाँ की सरकार की हिम्मत नहीं है कि उसके घर को कुछ कर दे। हमारी सरकार होती तो उसकी प्रॉपर्टी को तुड़वा देते। वक्फ बोर्ड को जब भी किसी चीज की जरूरत होगी, दिल्ली सरकार उसके साथ है।”

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल ने मुस्लिम तुष्टिकरण के चक्कर में साल 2019 में ये बयान दिया था। वहीं मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया को देखा जाय तो साल 2005 में करीमभाई अनाथालय ट्रस्ट से अंबानी के मालिकाना हक वाली मफिन-एंटीलिया प्राइवेट लिमिटेड ने उस जमीन को खरीदा था। इसके बाद वक्फ की संपत्ति बताते हुए जालना के रहने वाले अब्दुल मतीन नाम के एक मुस्लिम व्यक्ति ने अखबारों में प्रॉपर्टी को बेचे जाने की खबर देखकर कोर्ट केस किया। साल 2017 में बॉम्बे हाईकोर्ट ने वक्फ बोर्ड को एक याचिका दायर कर अंबानी के घर को लेकर स्पष्टीकरण देने को कहा था।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

केजरीवाल सरकार द्वारा पटाखे बैन पर जनता की प्रतिक्रिया: देखें वीडियो

%d bloggers like this: