अंतरधार्मिक शादी

बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान और किरण राव के तलाक़ मणिकर्णिका कही जाने वाली कंगना रनौत की भी अंतरधार्मिक शादी जबर्दस्त प्रतिक्रिया सामने आई हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कंगना रनौत ने अपने बयान में जबर्दस्त मुद्दे को रखते हुए कहा की “अंतरधार्मिक शादी में बच्चे हमेशा मुस्लिम ही क्यों?” उन्होंने ये बयान आमिर खान और उनकी दूसरी पत्नी किरण राव के तलाक़ के बाद कही है. दरअसल कुछ दिनों आमिर और उनकी पत्नी ने एक साथ सोशल मीडिया के माध्यम से एक दुसरे के बिच तलाक़ होने की बात स्पष्ट कर दी थी. जिसके बाद उन्हें कई तरह की आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ रहा है.

कंगना रनौत ने भी अब अपनी चुप्पी तोड़ते हुए खुलकर खुद की बात रखी, उन्होंने इन्स्टाग्राम पर एक स्टोरी के जरीय कहा की “जब पंजाब के परिवारों में एक बच्चा हिन्दू और एक बच्चा सिख के तौर पर पाला जाता था. लेकिन यह ट्रेंड हिन्दू-मुस्लिम, सिख-मुस्लिम या फिर किसी अन्य पंथ का मुस्लिमों के साथ नहीं देखा गया”. उन्होंने आगे कहा की “आमिर खान सर के दूसरे तलाक के साथ मैं आश्चर्य चकित हूँ कि अंतरधार्मिक विवाह के बाद बच्चा हमेशा मुस्लिम क्यों होता है? क्यों एक महिला हिन्दू नहीं रह सकती है? बदलते समय के इस प्रथा को भी बदलना चाहिए क्योंकि यह प्रथा प्राचीन है और गैर  विकासवादी है. जब एक परिवार में हिन्दू, बौद्ध, जैन, सिख, राधास्वामी और आस्तिक रह सकते हैं तो मुस्लिम क्यों नहीं? क्यों एक मुस्लिम से शादी करने के लिए किसी को अपना धर्म परिवर्तन करने की जरूरत पड़ती है”.

अंतरधार्मिक शादी
साभार: opindia

बता दें की आमिर खान और किरण राव ने 2005 में शादी की थी. दोनों का साथ 15 सालों तक रहा. सरोगेसी की मदद से आमिर और किरण ने साल 2011 में बेटे आजाद का स्वागत किया था किरण से पहले आमिर खान ने रीना दत्ता से शादी की थी. उनसे आमिर को आयरा खान और जुनैद खान हुए. साल 2002 में रीना और आमिर अलग हो गए थे.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

प्रियंका अब राष्ट्रवादी से सेकुलर puppy बन गई: कंगना रनौत

One thought on ““अंतरधार्मिक शादी में बच्चे हमेशा मुस्लिम ही क्यों?” आमिर-किरण तलाक़ पर कंगना”

Leave a Reply

%d bloggers like this: