हिंदू मंदिर

पश्चिम बंगाल के मायापुरी में बन रहा ‘वैदिक तारामंडल’ दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर हैं और इसके निर्माण में 100 मिलियन डॉलर यानि अरबों भी खर्च होंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पूर्वी एशियाई देश कंबोडिया में स्थित अंगकोर वाट का मंदिर दुनिया का सबसे ऊँचा और बड़ा हिंदू माना जाता है। लेकिन अब भारत में इससे भी बड़ा और ऊँचा मंदिर बनाया जा रहा है। पश्चिम बंगाल के मायापुरी में बन रहा है, जिसके 2023 तक बनकर तैयार होने की उम्मीद है। इसे हिंदू वैदिक तारामंडल नाम दिया गया है।

इसका निर्माण इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ कृष्णा कॉन्सियशनेस (इस्कॉन) के द्वारा किया जा रहा है। वैदिक तारामंडल मंदिर इस्कॉन का मुख्यालय भी होगा। दावा किया जा रहा है कि इस विशाल मंदिर की वास्तुकला बहुत ही अद्भुत है। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता से 130 किलोमीटर की दूरी पर निर्माणाधीन ये मंदिर पूरी तरह से बनकर तैयार होने के बाद अब तक का सबसे महंगा मंदिर भी होगा।

वैदिक तारामंडल की  ऊँचाई 113 मीटर होगी, जो कि वेटिकन में सेंट पॉल कैथेड्रल और आगरा के ताजमहल से भी विशाल होगा। इस विशाल मंदिर के निर्माण में 100 मिलियन डॉलर खर्च होंगे। कई रिपोर्टों में ऐसा दावा किया गया है कि वैदिक तारामंडल मंदिर की सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसके भवनों के डिजाइन को भागवत पुराण के अनुसार बनाया जा रहा है।

इसका स्ट्रक्चर ऐसा होगा कि इसमें विश्व के सबसे बड़े गुंबद होंगे। यहीं नहीं में एक साथ 10,000 लोगों के बैठने की जगह भी होगी। गौरतलब है कि ऐसा ही विशाल हिंदू मंदिर बिहार के पूर्वी चंपारण स्थित कैथवलिया में बनाया जा रहा है। भगवान राम को समर्पित मंदिर का नाम ‘विराट रामायण मंदिर’ रखा गया है। मान्यता है कि उस जगह भगवान राम की बारात रुकी थी। इस मंदिर पर विवाद भी हुआ था। कंबोडियाई सरकार ने इस विशाल मंदिर को अंगकोर वाट मंदिर की नकल बताया था, जिसके बाद इसमें कुछ संशोधन भी किए गए थे। ये विशाल मंदिर करीब 220 एकड़ में बन रहा है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

इस्लामिक देश UAE की राजधानी अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर की देखें

अद्भुत झलक, विदेश मंत्री ने किया दौरा

%d bloggers like this: