यति नरसिंहानंद

डासना के शिवशक्ति धाम के महंत यति नरसिंहानंद महाराज ने मुस्लिम मौलानाओं को ऑपन चेलेंज दिया है, उन्होंने लव जिहाद, सर तन से जुदा और गौहत्या के मुद्दे पर डायरेक्ट बात करने को कहा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद स्थित शिव शक्ति धाम डासना मंदिर महंत और जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद सरस्वती (Yeti Narasimhanand Saraswati) ने मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ शास्त्रार्थ करने की बात कही। ताकि लव जिहाद, गोहत्या, सर तन से जुदा के इस्लामिक नारे और गजवा ए हिंद की सच्चाई को सामने रखा जा सके।

उनका कहना है कि ये शास्त्रार्थ बंद कमरे में नहीं, बल्कि सार्वजनिक तौर पर जनता के सामने होना चाहिए। यति नरसिंहानंद गिरी महाराज ये मानते हैं कि आज ये बहुत ही आवश्यक हो गया है कि मुस्लिम धर्मगुरुओं का मत और उनका पक्ष विश्व के सामने स्पष्ट हो। हिंदू संत कहते हैं कि जब देश का बंटवारा हुआ था तो हिंदुओं ने मुस्लिमों को अपना भाई मानकर उन्हें यहाँ रहने दिया, लेकिन आज यही मुस्लिम तरह-तरह के जिहाद करके पूरे भारत को नर्क बना दिया है।

यति नरसिंहानंद कहते हैं कि इस्लाम क्या है? दुनिया को पता चल सके, इसके लिए इस्लामिक धर्मगुरुओं को खुले मंच पर आकर खुले मन से बात करना होगा। इस शास्त्रार्थ के लिए हरिद्वार के सर्वांनंद घाट को चुना गया है। इसके लिए 25 दिसंबर 2022 की तारीख भी तय की गई है। हिंदू संत ने कहा है कि इस शास्त्रार्थ का प्रसारण पूरी दुनिया में किया जाएगा।

गौरतलब है कि ये वही यति नरसिंहानंद सरस्वती हैं, जिन्होंने उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन रहे वसीम रिजवी की घरवापसी करवाई थी। इसके बाद उनका नाम जीतेंद्र नारायण त्यागी हो गया था। यति नरसिंहानंद सरस्वती हमेशा से लव जिहाद और इस्लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। इसी चक्कर में वो कई बार विवादों में रहे।

बता दें उन्हें हरिद्वार धर्म संसद में विवादित बयान देने के मामले में गिरफ्तार भी किया गया था। उन पर ये आरोप लगे थे कि धर्म संसद के दौरान कथित तौर पर उन्होंने हेट स्पीच दी थी। इसके बाद जब उत्तराखंड पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया, तो कथित तौर पर उन्होंने पुलिसवालों को भी धमकाया। हालाँकि, फिलहाल वो जमानत पर बाहर हैं।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

वीडियो वायरल “पहले सारी र*डियां मुसलमानी हुआ करती थी” -यति नरसिंहानंद

%d bloggers like this: