लव-जिहाद के कानून को सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायधीश ने गलत बताया है, CM योगी आदित्यनाथ ने इसी वर्ष 28 नवंबर को UP राज्य में लागु किया था.

लव-जिहाद

हाल ही में हुए एक इवेंट में एम बी लोकुर CM योगी आदित्यनाथ द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य में लागू किए गए लव जिहाद के कानून को गलत बोलते हुए कहा की “यह एक ऐसा कानून है जो कभी भी न्यायालय में नहीं टिक पाएगा और इस नय लव जिहाद वाले कानून में बहुत सी गलतियां छोड़ी गई है जो की संविधानिक एंव क़ानूनी तौर पर सही नहीं है.

एमबी लोकुर ने इस कार्यक्रम में दिया बयान

देश की सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायधीश मदन बी लोकुर ने दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश दिवंगत राजेंद्र सच्चर पर एक पुस्तक ‘इन पर्सूट ऑफ जस्टिस-एन ऑटोबायोग्राफी’ के विमोचन के मौके पर लोकुर ने ‘व्यक्तिगत स्वतंत्रता एवं न्यायपालिका’ के विषय पर बात करते हुए CM योगी के नय कानून का गलत बताया.

पूर्व न्यायधीश लोकुर ने कहा की “सामाजिक न्याय का विचार तो माने ठंडे बस्ते में दाल दिया गया है क्योंकि शीर्ष न्यायालय तो इस विषय पर उतनी प्रतिकिर्या नहीं दिखा रहा है, जितनी सक्रियता कोर्ट को दिखानी चाहिए थी.

CM योगी ने लागु किया था लव-जिहाद पर कानून

CM योगी आदित्यनाथ ने लव जिहाद के देश भर में बढ़ते ख़तरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश राज्य में इसके विरुद्ध इसी वर्ष यूपी की पूरी कैबिनेट ने 24 नवंबर को “गैर कानूनी धर्मांतरण विधेयक” को मंजूरी दी थी. सरकार का कहना है की इस कानून का मंतव्य महिलाओं की अधिक सुरक्षा रहने वाली है.

इस कानून के अंदर योगी सरकार ने कई कड़े कदम उठाय हैं, इस नय लव जिहाद के कानून के अंतर्गत जब भी कोई व्यक्ति अपनी पहचान छिपाकर छल कपट करके किसी गैर धर्म की महिला से विवाह करना अथवा उसका जबरन धर्म परिवर्तन करवाया तो उसे 10 वर्ष तक की सजा के प्रावधान को मंजूरी दी गई है.

इसे भी पढ़ें:-

हिंदू धर्म स्वीकार कर क़ासिम बना कर्मवीर, CM योगी से मांगी मदद

One thought on “योगी के लव-जिहाद कानून पर सुप्रीमकोर्ट न्यायाधीश बोले गलत हैं यह पूरा कानून”

Leave a Reply

%d bloggers like this: